Select Page

इस Mother’s Day पर हम मां पर कविता –माँ के साथ बिताये बचपन के कुछ हसीन पल लेकर आये हैं।जो आपको, आपके बचपन की यादों मेंं डूब जाने पर मजबूर कर देगा।

Maa par kavita
Happy Mother’s Day

Happy Mother’s Day 2018 Poem In Hindi

मां! बचपन में जब तुम, हाथ पकड़कर चलना सिखाती,
पैरों के लड़खड़ाने पर सम्भलना सिखाती।

गिरना,गिर कर उठना, उठ कर चलना यह है रीत बताती।

गर लग जाये चोट कहीं तो,तुम्हारी वो 2 फूंक ही घाव पर मरहम बन जाती।

गलती करने पर प्यार से समझती,फिर भी ना मानू तो गुस्से में चाटा लगाती।

और रूठ जाने पर, आजा मेरा मुन्ना कह कर बुलाती।

ना चाहते हुए भी अगले ही क्षण, मैं तुम्हारे पास आ जाता,

सुबक-सुबक कर अपना गुस्सा जताता,
ना बोलने का नाटक करके तुम्हे सताता।

फिर तुम अपने कोमल-कोमल हाथों से मेरे बालों को सहलाती,

प्यारी-प्यारी बातें कर कर मुझे मनाती,
और पीठ पर धीरे-धीरे थपकी लगाती।

और ना जाने कब मेरी आँखें लग जाती।

I love You Mammy

Happy Mothers Day

आपको Mothers Day के उपलक्ष्य में माँ पर लिखा गया कविता कैसा लगा कमेंट कर के जरूर बताये।

इस कविता को अपनी माँ के साथ शेयर कर के Mothers Day की बधाई दे सकते हैं।

धन्यवाद।